रणजी ट्रॉफी: जीत के लिए दिल्ली को चाहिए 209 रन, एमपी को 10 विकेट की दरकार

दिल्ली ने रणजी ट्रॉफी के क्वार्टर फाइनल में चौथे दिन रविवार को मध्य प्रदेश की दूसरी पारी 283 रनों पर समेट दी और स्टम्प्स तक अपनी पहली पारी में बिना कोई विकेट गंवाए आठ रन बना लिए हैं. रणजी ट्रॉफी के सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए दिल्ली को अब 209 रनों की जरूरत है और उसके सभी विकेट सही सलामत हैं. कुणाल चंदेला (4) और विकास टोकस (4) नाबाद हैं.

इससे पहले, रविवार को अपने पिछले दिन के स्कोर दो विकेट पर 47 रनों से आगे खेलने उतरी मध्य प्रदेश की टीम ने अपना तीसरा विकेट 50 के कुल योग पर शुभम शर्मा (28) के रूप में गंवाया. शुभम को विकास मिश्रा ने पगबाधा आउट किया.

टीम के खाते में तीन रन ही जुड़ पाए थे कि नवदीप सैनी ने नमन ओझा (3) को पैवेलियन भेजकर मध्य प्रदेश को चौथा झटका दिया. इसके बाद, पुनीत दाते (60) ने कप्तान देवेंद्र बुंदेला (33) के साथ शतकीय साझेदारी कर टीम को 153 के स्कोर तक पहुंचाया. इसी स्कोर पर विकास ने दाते को बोल्ड कर इस साझेदारी को तोड़ दिया. मनन शर्मा ने इसी स्कोर पर बुंदेला को भी चलता किया.

हरप्रीत सिंह (78) ने इसके बाद अंकित शर्मा (18) के साथ मिलकर टीम की पारी को संभाला। शतकीय साझेदारी कर टीम को 200 के पार पहुंचाया, लेकिन टोकस ने अंकित को 210 के स्कोर पर आउट कर इस साझेदारी को तोड़ दिया.

टोकस ने इसके बाद मिहिर हिरवानी (22) को भी पिच पर ज्यादा देर तक टिकने नहीं दिया और ऋषभ पंत के हाथों कैच आउट कर पवेलियन का रास्ता दिखाया. विकास ने बाकी बचे दो बल्लेबाजों हरप्रीत सिंह और ईश्वर पांडे (6) को आउट कर मध्य प्रदेश की पारी 283 रनों पर समेट दी.

दिल्ली के लिए इस पारी में विकास ने सबसे अधिक चार विकेट लिए, वहीं टोकस ने तीन विकेट हासिल किए. सैनी और मनन को एक-एक सफलता हासिल हुई. मध्य प्रदेश ने पहली पारी में 338 रन जबकि दिल्ली ने 405 बनाए थे.