विधानसभा चुनाव से पहले आरएसएस चीफ और मुख्यमंत्री की गुप्त मंत्रणा

भोपाल। तीन दिवसीय बैठक में भाग लेने आए आरएसएस चीफ मोहन भागवत के साथ गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की मुलाकात काफी चर्चाओं में रही। इसे आने वाले विधानसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। दोनों दिग्गजों में करीब आधे घंटे तक गुप्त मंत्रणा हुई। सूत्रों के मुताबिक इसी साल मध्यप्रदेश में होने वाले चुनाव और प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार के बारे में चर्चा हुई है।

आरएसएस प्रमुख और प्रदेश के मुखिया के बीच हुई इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है। गुरुवार सुबह मध्यप्रदेश के संघ के दफ्तर समिधा में यह मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात के बाद संघ प्रमुख सड़क मार्ग से विदिशा रवाना हो गए।

मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की इस गुप्त मीटिंग को बड़ा ही अहम माना जा रहा है। संघ प्रमुख मोहन भागवत बुधवार रात को ही विदिशा पहुंच रहे हैं। माना जा रहा है कि गुरुवार से तीन दिनों तक चलने वाली यह मीटिंग दोनों ही राज्यों की दिशा तय करने वाली है।

पिछले सप्ताह ही उज्जैन में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ हुई संघ प्रमुख की गुप्त मीटिंग काफी चर्चाओं में रही। अब मोहन भागवत 11 जनवरी से तीन दिनों तक वे विदिशा में ही रहेंगे। इस दौरान मध्यप्रदेश में मंत्रिमंडल फेरबदल, भाजपा के प्रदेश संगठन में नई पदस्थापना समेत चुनाव से पहले ऐसे फैसले लिए जा सकते हैं जो प्रदेश में भाजपा को मजबूती दे।

भाजपा का ग्राफ करने से बढ़ी चिंता
संघ के सामने प्रदेश भाजपा संगठन का ग्राफ काफी गिरा हुआ माना जा रहा है। इससे संघ भी चिंतित है। पिछले कुछ समय से हुई भाजपा की किरकिरी को भी संघ ने गंभीरता से लिया है। इन तीनों तक भाजपा की मजबूती के लिए भी संघ कड़े दिशा-निर्देश दे सकता है।

मध्य क्षेत्र में है एमपी-छग
संघ की बैठक में छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के आरएसएस कार्यकर्ता शामिल हो रहे हैं। कुछ कार्यकर्ताओं के आने का सिलसिला शुरू हो गया है। दोनों ही राज्य संघ के मध्य क्षेत्र में आते हैं, इन्हें चार प्रांतों में बांटा गया है। इसमें मध्यभारत, मालवा, महाकौशल प्रांत और छत्तीसगढ़ शामिल है।

चार हजार कार्यकर्ताओं का आना शुरू
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मध्यक्षेत्र का महाकुम्भ 11 जनवरी से शुरू हो रहा है। इसमें शामिल होने और स्वयंसेवकों को मार्गदर्शन देने संघ प्रमुख मोहन भागवत बुधवार रात ही विदिशा आ जाएंगे। वे कपूर गार्डन में ठहरेंगे। जबकि मप्र-छत्तीसगढ़ सहित देश भर के आरएसएस के पदाधिकारियों को कपूर पैराडाइज, आशीष मंगल वाटिका और सरस्वती शिशु मंदिर केशवनगर में ठहराया जा रहा है। विदिशा में प्रशासनिक और संघ स्तर पर तैयारियां चल रही हैं।

सरस्वती शिशु मंदिर परिसर में बैठक और बौद्धिक होगा, इसके लिए भी पांडाल तैयार हो गया है। 12 जनवरी को एसएटीआई में करीब 4000 लोगों को संघ प्रमुख भागवत संबोधित करेंगे। संघ की इस तीन दिनी बैठक को गोपनीय रखा जा रहा है। संघ पदाधिकारियों के अलावा कोई यहां प्रवेश नहीं कर पाएगा। मीडिया से भी दूरी रहेगी।