कभी एक-एक रुपए के लिए मोहताज था टीम इंडिया ये खिलाड़ी

इन दिनों टीम इंडिया के आॅलराउंडर हार्दिक पंड्या की लो​कप्रियता आसमान छू रही है. मैदान और मैदान के बाहर उनका टशन जारी है और यही वजह कि वो अक्सर सुर्खियों में रहते हैं. हालांकि इस वक्त वह गौरव कपूर के शो ‘ब्रेकफास्ट विद चैंपियन’ के कारण चर्चा में हैं.

दरअसल, बदहाली के दौर से गुजरते हुए अपनी कठिन मेहनत के दम पर एक अलग पहचान बनाने वाले हार्दिक ने इस शो के दौरान खुलासा किया,’ मैंने शुरुआती दौर में कार तो खरीद ली थी, लेकिन ईएमआई नहीं चुका पा रहा था। इसी वजह से मुझे अपनी कार को दो साल तक छुपा कर रखना पड़ा था। कार की ईएमआई चुकाने के लिए मुझे पांच-पांच और दस-दस हजार रुपए तक जुटाने पड़ रहे थे. उस वक्त हमारी पूरी कमाई कार की ईएमआई और खान-पान की चीजें जुटाने में खर्च हो जाती थी. यह आईपीएल में शामिल होने से पहले की बात है.’

आईपीएल को अपने जीवन में बदलाव का अहम पड़ाव मानने वाले हार्दिक आगे कहते हैं,’ भागवान सबसे ताकतवर हैं. जब मैंने आईपीएल में मुंबई के लिए पहले साल सहभागिता की तो वह चैंपियन बन गई. मुझे अनुबंध और इनाम के तौर पर 50 लाख रुपए का चेक मिला जिसने हमारा जीवन बदल दिया. सोचिए, आईपीएल में डेब्यू करने से पहले हम एक-एक रुपए के लिए संघर्ष कर रहे थे लेकिन कुछ ही महीनों में मेरी जेब में 50-60 लाख रुपए थे.
गौरतलब है कि पंड्या ने अब तक टीम इंडिया का तीन टेस्ट, 29 वनडे और 24 टी20 मैच में प्रतिनिधित्व​ किया है और वह अपने आॅलराउंड प्रदर्शन की वजह से हर दिल अज़ीज बन गए हैं. जबकि क्रिकेट के जानकार उन्हें महान भारतीय हरफनमौला कपिल देव का उत्तराधिकारी भी मान रहे हैं.